भारत में जनजातीय आंदोलन

कोया विद्रोह,खामती विद्रोह,दीवान बेलाटम्पी का विद्रोह,विजय नगर का विद्रोह,कूका विद्रोह,खोण्डा डोरा विद्रोह,युआन जुआंग विद्रोह,खंड एवं सवार विद्रोह,नागा विद्रोह,सूरत का नमक विद्रोह,पाइक विद्रोह,फकीर विद्रोह,पाॅलीगार विद्रोह,बहावी आंदोलन,सावंतवादी विद्रोह,कच्छ विद्रोह,किट्टूर विद्रोह,गडकरी विद्रोह,बघेरा विद्रोह,भील विद्रोह,फरायजी विद्रोह,अहोम आदिवासी विद्रोह,पागलपंथी विद्रोह,खासी विद्रोह,चुआर विद्रोह,संथाल विद्रोह,कोल विद्रोह,मुंडा एवं हो विद्रोह,पूर्वी भारत में जनजातीय विद्रोह,भारत में जनजातीय आंदोलन

औपनिवेशिक काल में अंग्रेजों ने अपने साम्राज्य विस्तार के लिए कृषक को जमीदारों और आदिवासियों को उनकी जमीनों से बेदखल कर दिया जिसकी वजह से इन सभी समुदायों में अंग्रेजी राज्य के प्रति असंतोष पैदा हुआ जिसके परिणाम स्वरूप अंग्रेजी राज्य की स्थापना के साथ ही उसके विद्रोह की तीव्रता भी बढ़ती चली गई जो समय-समय पर देश के विभिन्न भागों में छोटे-मोटे जनजातीय विद्रोह के रूप में दिखाई देती है

जनजातीय विद्रोह भारत के विभिन्न क्षेत्रों में हुआ

पूर्वी भारत में जनजातीय विद्रोह

सन्यासी विद्रोह 1760 ईस्वी से 18 ईसवी के मध्य बंगाल में हुआ इस विद्रोह में शामिल सन्यासी गिरी संप्रदाय से संबंधित थे और सन्यासी विद्रोह के प्रमुख नेता दिर्जी नारायण और केना सरकार थे बंकिम चंद्र चटर्जी ने अपने उपन्यास आनंद मठ में इस सन्यासी विद्रोह का वर्णन किया है

सन्यासी विद्रोह के प्रमुख कारण तीर्थ स्थलों पर जाने पर अंग्रेजों द्वारा प्रतिबंध लगा दिया आकाश 1770 ईस्वी में बंगाल में भीषण अकाल पड़ा इस विद्रोह में तत्कालीन असंतुष्ट किसानों जमीदारों और हस्तशिल्प के मजदूरों ने अपना योगदान दिया अंग्रेज अधिकारी वारेन हेस्टिंग में सन्यासी विद्रोह को कठोर दंडात्मक कार्यवाही द्वारा दबा दिया।

मुंडा एवं हो विद्रोह (1820-22)

यह छोटा नागपुर एवं सिंह भूमि जिला से अंग्रेजों द्वारा मुंडा एवं हो जनजातियों को उनकी भूमि से बेदखल किए जाने से इस विद्रोह की नींव पड़ी हो जनजाति ने 1820 22 ईसवी तक और 1831 ईसवी में अंग्रेजी सेना का विद्रोह किया

राजा जगन्नाथ जो बंगाल के पाराहार के तत्कालीन राजा थे उन्होंने आदिवासियों की इस विद्रोह में भरपूर सहायता की मेजर रफ सेज कठोर कार्यवाही से इस विद्रोह का दमन कर दिया 18 से 74 में मुंडा विद्रोह शुरू हुआ तथा 18 से 95 ईसवी में बिरसा मुंडा द्वारा इस विद्रोह का नेतृत्व संभालने पर यह विद्रोह शक्तिशाली रूप से सामने आया इन्होंने 18 से 99 ईसवी में क्रिसमस की पूर्व संध्या पर इस विद्रोह की उद्घोषणा की जो सन उन्नीस सौ में पूरे मुंडा क्षेत्र में आग की तरह फैल गया सन उन्नीस सौ में अंग्रेजों द्वारा बिरसा मुंडा को गिरफ्तार कर लिया जहां राॅची की जेल में हैजे से बिरसा मुंडा की मृत्यु हो गई.

कोल विद्रोह (1831)

1831 में छोटा नागपुर मैं यह कोल विद्रोह हुआ इस विद्रोह का प्रमुख कारण कोल आदिवासियों की जमीन छीनकर मुस्लिम और सिख संप्रदाय के किसानों को दे दी इस विद्रोह में गंगा नारायण और बुद्धो भगत ने भूमिका निभाई यह विद्रोह मुख्य रूप से रांची हजारीबाग पलामू मानभूम और सिंह भूमि क्षेत्र में फैला

संथाल विद्रोह (1855)

सन 1855 ईस्वी में जमीदार और साहूकारों के अत्याचार और भूमि कर अधिकारियों के दमनात्मक व्यवहार के प्रति सिद्धू एवं कान्हू के नेतृत्व में राजमहल एवं भागलपुर के संस्थान आदिवासियों ने विद्रोह कर दिया जिसके फलस्वरूप विद्रोहियों ने संथाल परगना गठित करने की मांग की और अपनी सशक्त प्रकृति के कारण विद्रोह वीर भूमि सिंह भूमि बांकुरा हजारीबाग मुंगेर तथा भागलपुर जिलों में फैल गया सन 18 से 56 ईसवी में ब्रिटिश सरकार ने दमनात्मक सैनिक कार्यवाही द्वारा संथाल विद्रोह को कुचल दिया गया तथा इस क्षेत्र में शांति स्थापित करने के लिए ब्रिटिश सरकार ने विद्रोहियों की पृथक संथाल परगना गठित करने की मांग को स्वीकार कर लिया

चुआर विद्रोह (1798)

दुर्जन सिंह तथा जगन्नाथ के नेतृत्व में बंगाल के मिदनापुर जिले में 1798 ईसवी में यह विद्रोह हुआ इस विद्रोह का मुख्य कारण भूमि कर एवं अकाल के कारण उत्पन्न आर्थिक संकट था इस विद्रोह में आत्म विनाश की नीति अपनाते हुए श्री कैला पाल दल भूमि बाराभूम एवं ढोल का के शासकों और चुआर के आदिवासियों ने योगदान दिया यह विद्रोह रुक रुक कर 30 वर्षों तक चला

खासी विद्रोह

भारत के उत्तरी पूर्वी क्षेत्र में जब अंग्रेजों ने खासी की पहाड़ियों से लेकर सिलहट के बीच सड़क मार्ग बनाना प्रारंभ किया तो स्थानीय लोगों ने इसे ब्रिटिश राज्य का उनकी स्वतंत्रता पर हस्तक्षेप मानते हुए विद्रोह किया और स्थानीय खम्पाटी तथा सिंहपो लोगों ने राजा तीरथ सिंह के नेतृत्व में आंदोलन किया इस आंदोलन में श्री वीर मानिक और मुकुंद सिंह ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई खासी विद्रोह 1833 ईसवी तक कठोर सैन्य कार्यवाही द्वारा कुचल दिया गया

पागलपंथी विद्रोह

उत्तर बंगाल में कर्म शाह ने एक अर्ध धार्मिक संप्रदाय पागलपंती की नीव डाली जमीदार और साहूकारों के अत्याचारों के खिलाफ कर्म शाह के पुत्र टीपू  ने स्थानीय गारो आदिवासियों के साथ मिलकर 1825 ईस्वी में विद्रोह किया और 18 से 50 ईसवी तक यह विद्रोह एक मजबूत संगठन के अभाव में तथा ब्रिटिश सरकार की दमन आत्मा कार्यवाही के परिणाम स्वरूप दबा दिया गया

अहोम आदिवासी विद्रोह (1828)

यह ब्रिटिश सरकार ने 1828 ईस्वी में असम राज्य के अहोम प्रदेश को ब्रिटिश साम्राज्य में मिलाने का प्रयत्न किया तो अहोम आदिवासियों ने गोमधर कुंवर नेतृत्व में विद्रोह कर दिया उस समय इस विद्रोह को सैन्य कार्यवाही द्वारा दमन पूर्वक रीति से कुचल दिया गया परंतु 1830 इसी में पुणे विद्रोह क्यों देखते हुए अंग्रेजों ने असम के राजा पुरंदर सिंह को असम के प्रदेश सरकार अहोम विद्रोह को शांत किया

फरायजी विद्रोह (1838)

बंगाल के फरीदपुर नामक स्थान पर फरायजी संप्रदाय के अनुमोदन पर शरीयत उल्लाह ने इस विद्रोह का नेतृत्व किया और शरीयत उल्लाह के पुत्र दादू मियां ने अंग्रेजों को बंगाल से बाहर खदेड़ने के लिए तथा जमीदारों के अत्याचारों को समाप्त करने के लिए 1838 ईस्वी में इस विद्रोह को किया यह विद्रोह अट्ठारह सौ सत्तावन ईसवी तक चला परंतु किसी सक्रिय नेता के अभाव में इस आंदोलन ने दम तोड़ दिया और इस आंदोलन के लोग बहावी आंदोलन से जुड़ गए

पश्चिम भारत के प्रमुख आदिवासी विद्रोह

भील विद्रोह (1818)

1818 में भील विद्रोह का प्रारंभ हुआ यह भारत के पश्चिमी क्षेत्र में हुआ इस विद्रोह का मुख्य कारण कृषि से संबंधित परेशानियां और अंग्रेजों द्वारा लगाए जाने वाले टैक्स थे 1825 ईसवी में सेवरम के नेतृत्व में भीलों ने पुनः विद्रोह किया कार 1846 ई. तक भील विद्रोह चलता रहा, भील विद्रोह को भड़काने का आरोप ईस्ट इंडिया कंपनी ने पेशवा बाजीराव द्वितीय और त्र्यंबक जी पर लगा दिया।

बघेरा विद्रोह

यह विद्रोह ओखा मंडल के बघेरा लोगों द्वारा सन 1818 से 1819 ई.तक बड़ौदा की गायकवाड राजा द्वारा किया गया इस विद्रोह का मुख्य कारण जमीदारों द्वारा अंग्रेजों की सहायता से ज्यादा कर वसूली करना था और 1820 ईसवी में एक सैन्य कार्यवाही द्वारा बघेरा विद्रोह का भी दमन कर दिया गया.

गडकरी विद्रोह (1844)

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में 1844 ईसवी में गडकरी विद्रोह हुआ इस विद्रोह का मुख्य कारण गडकरी जाति के सैनिकों का विस्थापन था इन विस्थापित सैनिकों ने अंग्रेजों का विरोध करते हुए भूदरगढ़ और समतनगर के किलो पर हमला कर दिया

किट्टूर विद्रोह

किट्टूर के स्थानीय शासक की विधवा रानी चेन्नमा ने किया क्योंकि अंग्रेजों ने राजा के दत्तक पुत्र को मान्यता नहीं दी यद्यपि ब्रिटिश सरकार ने दमनात्मक कार्यवाही द्वारा इस विद्रोह को दबा दिया यह विद्रोह 1824 से 1829 ईसवी तक चला

कच्छ विद्रोह (1819)

कच्छ के राजा भारमल को अंग्रेजों द्वारा शासन से बेदखल करना कच्छ विद्रोह का मुख्य कारण था अंग्रेजों ने कच्चे थे अल्प वयस्क पुत्र को वहां का शासक बना दिया और भूकर में वृद्धि कर दी इसका विरोध स्वरूप भारमल और उसके समर्थकों ने 1819 में यह विद्रोह शुरू कर दिया

सावंतवादी विद्रोह (1844)

दक्कन में सन 1844 में मराठा सरदार फोंट सावंत और अन्ना साहब ने मिलकर अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध एक तीव्र आन्दोलन किया यह आन्दोलन सावंतवादी विद्रोह के नाम से जाना जाता है ब्रिटिश सरकार ने इस विद्रोह को दमन पूर्वक कुचल दिया

भारत के अन्य प्रमुख विद्रोह

बहावी आंदोलन (1830)

1830 में रायबरेली के सैयद अहमद के नेतृत्व में 1807 ईस्वी तक यह विद्रोह चला जो दिल्ली के शाह वली उल्लाह से प्रभावित था इस विद्रोह का मुख्य उद्देश्य मुस्लिम धर्म में व्याप्त बुराइयों को दूर करके हजरत मोहम्मद से संबंधित मूल इस्लाम धर्म को स्थापित करना था भारत में इसका मुख्य केंद्र पटना था पटना के अतिरिक्त यह आंदोलन हैदराबाद बंगाल मद्रास तथा उत्तर प्रदेश मैं चला सैयद अहमद ने शस्त्र धारण करने के लिए प्रेरित किया और पंजाब में सिखों के राज्य के विरुद्ध जिहाद की घोषणा कर दी जिहाद का अर्थ होता है धर्म ‘युद्ध’ 1857 के विद्रोह में बहावी लोगों ने जनता को अंग्रेजो के खिलाफ भड़काया और बाहरी लोगों ने कुछ समय तक पेशावर पर सैयद अहमद के नेतृत्व में कब्जा कर लिया परंतु सैयद अहमद ही युद्ध में मारे गए और 1860  के बाद अंग्रेजों ने सैन्य कार्यवाही द्वारा बहावी विद्रोह को कुचल दिया इस विद्रोह के प्रमुख नेता विलायत अली अली मौलवी इनायत अली और अब्दुल्ला आदि थे.

पाॅलीगार विद्रोह 1801

तमिलनाडु में नई भूमि व्यवस्था लागू करने के बाद ब्रिटिश सरकार के खिलाफ सन 1801 ईसवी में वहां के स्थानीय पाली वालों ने वीपी कट्टा बामन्नान के नेतृत्व में विद्रोह किया गया और यह विद्रोह 1856ईस्वी तक चला.

फकीर विद्रोह(1776)

बंगाल में 1776 इसी में फकीर विद्रोह प्रारंभ हुआ इस आंदोलन के नेतृत्वकर्ता चिराग अली शाह तथा मजनू शाह थे इस विद्रोह में देवी चौधरानी तथा भवानी पाठक ने अपना महत्वपूर्ण सहयोग दिया

पाइक विद्रोह (1817)

मध्य उड़ीसा में पाइक जनजाति द्वारा सन 1817 ईस्वी से 1825 ईसवी तक यह विद्रोह किया इस विद्रोह के नेतृत्व कर्ता बख्शीजगबंधु ने किया

सूरत का नमक विद्रोह (1817)

अंग्रेजों द्वारा नमक के कर में 50 पैसे की वृद्धि करने पर इसका विरोध करने के लिए 1844 ईस्वी में सूरत के स्थानीय लोगों ने यह विद्रोह किया इसे विद्रोह के परिणाम स्वरूप अंग्रेजों ने बढाए नमक करो को वापस ले लिया

नागा विद्रोह(1931)

नागा विद्रोह रोगमइ जादोनांग के नेतृत्व में भारत के पूर्वी राज्य नागालैंड में हुआ नाग आंदोलन का मुख्य उद्देश्य नागा राज्य की स्थापना करके प्राचीन धर्म को स्थापित करना था अंग्रेजों ने नेता जादोनांग को गिरफ्तार करके 29 अगस्त 1931 को फांसी पर लटका दिया इसके बाद में इस आंदोलन की बागडोर एक नागा महिला गैडिनल्यु ने अपने हाथों में ले ली इन्होंने नागा आंदोलन को गांधीजी के सविनय अवज्ञा आंदोलन से जोड़कर इस आंदोलन को विस्तारित किया गैडिनल्यु ने पूर्व नेता जादोनांग के विचारों से प्रेरित होकर एक  होर्का पंथ की स्थापना की पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भारत की स्वतंत्रता के पश्चात इस महिला को रानी की उपाधि से सम्मानित किया और रानी गैडिनल्यु को कारावास से मुक्त करके स्वतंत्र करवाया.

खंड एवं सवार विद्रोह (1837)

खून दे गम सवार विद्रोह 1837 ईस्वी से लेकर 1856 ईसवी तक बंगाल तमिलनाडु तथा मध्य भारत में रहने वाली खोंड तथा सवार नामक जनजातियों द्वारा चलाया गया इस विद्रोह का मुख्य कारण अंग्रेजी सरकार द्वारा नरबलि पर रोक तथा नए कर लगाना था खोंड एवं सवार विद्रोह का नेतृत्व श्री चक्र बिसोई नीतियां 1857 में शुरू हुए इस विद्रोह में राधा कृष्ण दंड सेन को अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया और यह विद्रोह समाप्त हो गया

युआन जुआंग विद्रोह (1867)

युवान विद्रोह 1867 ई. ने रन्न नायक के नेतृत्व में क्योंझर में हुआ था क्योंझर के राजा के राज्य अभिषेक पर युवान सरदारों को उपस्थित होना अनिवार्य था इस प्रथा को अंग्रेज सरकार द्वारा एकदम से समाप्त कर दिया जिससे  क्यों हर राज्य में की है विद्रोह भड़क गया और अंग्रेजों ने इस विद्रोह को कठोर दंडात्मक कार्यवाही द्वारा कुचल दिया युवा लोगों ने दूसरा विद्रोह धरनी नायक के नेतृत्व में 1891 ईसवी में किया काल एवं जुआंग लोगों ने इस आंदोलन में भाग लिया घड़ी नायक के नेतृत्व में स्थानीय जनता के सहयोग से क्योझर के राजा को कटक भागना पड़ा और स्थानीय प्रशासन के सहयोग से अंग्रेजों ने यह विद्रोह भी कुचल दिया

खोण्डा डोरा विद्रोह (1900)

गोंडा डोरा विद्रोह विशाखापट्टनम के डाबर क्षेत्र में सन उन्नीस सौ में गोंडा दौरा नामक जनजाति द्वारा प्रारंभ किया गया इस विद्रोह के नेतृत्वकर्ता कोरा मलैया थे कोरा मलैया ने स्वयं को पांडवों का अवतार तथा अपने पुत्र को श्री कृष्ण का अवतार बताया अंग्रेजों ने कठोर और बर्बर सैन्य कार्यवाही से इस विद्रोह को भी कुचल दिया।

कूका विद्रोह (1840)

भगत जवाहर मल ने पश्चिमी पंजाब में 1840 ईसवी में कूका विद्रोह की शुरुआत की कूका आंदोलन की आरंभिक प्रवृत्ति धार्मिक थी परंतु जल्दी ही कूका आंदोलन एक राजनैतिक आंदोलन में परिवर्तित हो गया इस विद्रोह का उद्देश्य सिख धर्म की बुराइयों को दूर करना था हजारा को विद्रोह का केंद्र बनाते हुए श्री जवाहर मल ने बालक सिंह और राम सिंह की मदद से कूका विद्रोह किया भगत जवाहर मल को सीएम साहब के नाम से भी संबोधित किया जाता है अंग्रेजों ने कठोर सैनिक कार्यवाही कर कूका विद्रोह का दमन कर दिया और राम सिंह को निर्वासित करके रंगून भेज दिया।

विजय नगर का विद्रोह (1765)

1765 ईस्वी में ईस्ट इंडिया कंपनी ने राज्य के उत्तरी जिलों पर अधिकार करके कठोर नीति का पालन किया तथा 1794 ईस्वी में राजा को सेना भंग करने तथा ₹300000 देने के लिए कहा गया जिससे राजा सहमत हुआ और असहमति के परिणाम स्वरूप राजा की जागीर को जप्त कर लिया गया अंग्रेजी सेना से लड़ते हुए राजा के मरने के बाद ईस्ट इंडिया कंपनी ने राजा के बड़े बेटे को जागीर पुणे वापस कर वहां शांति की स्थापना की।

दीवान बेलाटम्पी का विद्रोह(1805)

त्रावणकोर के राजा को लार्ड वेलेजली ने 1805 ईसवी में वादे क रदिया परंतु राजा ने संधि की शर्तों से असहमति व्यक्त कर ते हुए कर देने में आनाकानी की जिससे अंग्रेजों का व्यवहार थोड़ा कठोर हो गया जिसके पल्सर रूप नायर बटालियन के सहयोग से दीवान बेलाटमम्पी ए विद्रोह कर दिया अंग्रेजों ने दीवार विराट एमपी का विद्रोही कार्यवाही द्वारा दबा 

खामती विद्रोह(1843)

अहोम राजा ने म्यामार की खामोशी जाति को बसने की इजाजत देने के बाद यह लोग सदिया के आसपास क्षेत्रों में बस गए अंग्रेजों ने इनकी रीति रिवाज एवं राजस्व वसूली को लेकर मतभेद होने पर खामती जाति के लोगों ने रूनू गुहाई और खवा गुहाई के मजबूत नेतृत्व में दुर्गा कर दिया और सदियां में स्थित अंग्रेजी रेजीमेंट के मेजर वाइट को मौत के घाट उतार दीया परंतु सरदारों की आपसी फूट का लाभ उठाया और 1843 ईस्वी में इस विद्रोह को भी कुचल दिया गया।

कोया विद्रोह (1879)

कोया विद्रोह दो चरणों में हुआ पहले चरण का नेतृत्व टेंपर सोरा ने किया और द्वितीय चरण में राजन अनंत शैय्यार नेतृत्व किया

कोया आन्दोलन गोदावरी के पूर्वी क्षेत्र में रंपा प्रदेश में शुरू हुआ इसको या विद्रोह का मुख्य कारण आदिवासियों के जंगल संबंधी प्राकृतिक अधिकारों को अंग्रेजों द्वारा खेल लिया गया तथा कोया लोगों पर ताड़ी के घरेलू उत्पादन पर कर लगा देना मुख्य कारण था।

राजू रंपा में कोया विद्रोह का कुछ समय तक नेतृत्व किया द्वितीय चरण में कोया विद्रोह का नेतृत्व अनंत शैय्यार  ने किया अंग्रेजों ने कठोर सैन्य कार्यवाही द्वारा कोया विद्रोह को समाप्त कर दिया।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top
Canlı Bahis Siteleri Bahis forum Paykwik fiyatları Paykwik Al Paykwik bozum Paykwik satın al Marmaris excursions Boat trips in Marmaris Scuba Diving tour in Marmaris Ucuz Paykwik Satın al